There was an error in this gadget

Monday, 3 October 2011

माँ और बेटा




                                                    माँ जब भी रोती थी ,
                                                    जब बेटा रोटी नहीं खाता  था |
                                                    माँ आज भी रोती है ,
                                                    जब बेटा  रोटी नहीं देता है|
                                                   दुनिया में सबसे बड़ी सेवा माँ की सेवा,
                                                   जो करे माँ की सेवा उसको मिले मेवा |

6 comments:

  1. Bhai Nishant maan ki sewa hi sabse badi sewa hoti hai. Bilkul sahi baat hai .

    ReplyDelete
  2. किस्मत ही ऐसी पायी थी कि क्या करे, सभी एक से नहीं होते।

    ReplyDelete
  3. सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ शानदार रचना लिखा है आपने! लाजवाब प्रस्तुती!
    आपको एवं आपके परिवार को दशहरे की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  4. सच है ये बात ... माँ का दिल दुखाना ठीक नहीं ...

    ReplyDelete